SSC CGL TIER 1 Excretory System Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Excretory System Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Excretory System Study Material In Hindi

उत्सर्जन तन्त्र

SSC CGL TIER 1 Excretory System Study Material In Hindi
SSC CGL TIER 1 Excretory System Study Material In Hindi
  • जन्तुओं के शरीर में उपापचय के परिणामस्वरुप कार्बन डाइ-ऑक्साइड, जल, अमोनिया, ऊर्जा, यूरिया, यूरिक अम्ल आदि कई ऐसे अपशिष्ट पदार्थों का निर्माण होता रहता है, जो शरीर के लिए हानिकारक होते हैं, अत: उपयुक्त स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए उन्हें शरीर से निष्कासित करना आवश्यक होता है। ऐसे जन्तु, जो अमोनिया (NH3) को उत्सर्जित करते हैं, उन्हें अमोनोटीलिक कहते हैं।

उदाहरण प्रोटोजोआ, पोरीफेरा, निडेरिया, मोलस्का, जलीय ऑर्थ्रोपोडा, अस्थीय मछलियाँ, कछुआ आदि। ऐसे जन्तु, जो अमीनो अम्ल का उत्सर्जन करते हैं उन्हें अमीनोटीलिक कहते हैं; जैसे—सीपी (Unio), घेंघा (Limnaea), एकाइनोडर्मेटा आदि।

  • ऐसे जन्तु, जो यूरिया का उत्सर्जन करते हैं, उन्हें यूरियोटेलिक कहते हैं; जैसे—वयस्क उभयचर एवं स्तनधारी।
  • ऐसे जन्तु, जो यूरिक अम्ल को ठोस रवों (Crystal) के रुप में उत्सर्जित करते हैं, उन्हें यूरिकोटेलिक कहते हैं; जैसे—पक्षी, सरीसृप, कीट आदि।

कुछ जीवों के उत्सर्जी अंग

उत्सर्जी अंग

जन्तु

ज्वाला कोशिकाएँप्लेटिहेल्मिन्थीज
मैल्पीघी कोशिकाएँकीट
कोक्सल ग्रन्थियाँमकड़ी तथा बिच्छू
वृक्कएनीलिडा, सरीसृप, पक्षी तथा स्तनधारी

  • आन्तरिक संरचनात्मक एवं क्रियात्मक रुप से वृक्क अनेक छोटी-छोटी इकाइयों का बना होता है, जिसे वृक्क नलिका (Uriniferous tubules) या नेफ्रोन कहते हैं। प्रत्येक वृक्क नलिका का आरम्भ एक प्यालेनुमा रचना से होती, जिसे बोमैन सम्पुट (Bowman’s Capsule) कहते हैं, नेफ्रोन का अन्त एक संग्रह नलिका (Collecting tubule) में होता है।

Different Animals And Emissions In Them Study Material In Hindi

विभिन्न जन्तु एवं उनमें उत्सर्जन

जन्तु

उत्सर्जन

एक कोशिकीय जन्तुविसरण के द्वारा
पोरीफेरा संघ के जन्तुविशिष्ट नलिका तन्त्र द्वारा
सीलेण्ट्रेट्ससीधे कोशिका द्वारा
चपटे कृमिज्वाला कोशिकाओं द्वारा
एनेलिडा संघ के जन्तुवृक्क द्वारा (Nepbrida)
आर्थोपोड्समैल्पीधियन नलिकाओं द्वारा
मोलस्कामूत्र अंग द्वारा
केशरुकीमुख्यकर्ता वृक्क द्वारा

Know Composition  Of Urine SSC CGL TIER 1

मूत्र का संघटन

  • एक सामान्य व्यक्ति 24 घण्टे में 1 से 1.8 मीटर मूत्र का उत्सर्जन करता है।
  • रंग-पीला (यूरोक्रोम के कारण)
  • pH-6.0
  • विशिष्ट घनत्व 1.015-1.02
  • जल 95%

SSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

Leave a Comment

Your email address will not be published.