NIELIT  CCC Study material & notes Hindi & English दाशमिक से बाइनरी में बदलना

CCC Concept of Hardware and Software Study Material Hindi And English

CCC Concept of Hardware and Software Study Material Hindi And English

CCC Study Material Notes हार्डवेयर तथा सॉफ्टवेयर की अवधारणा (Concept of Hardware and Software) इस पोस्ट में कम्प्यूटर के भागों के बारे में पूर्ण रूप से एंव विधिवत दर्शाया गया है। तथा  कम्प्यूटर के वास्तविक रूप को details, में दिखाया गया हैं।

NIELIT  CCC Study material & notes Hindi & English दाशमिक से बाइनरी में बदलना
NIELIT  CCC Study material & notes Hindi & English दाशमिक से बाइनरी में बदलना

कम्प्यूटर के बारे में सोचने पर हमें अधिकतर मॉनीटर, माउस, सीपीयू आदि का विचार दिमाग में आता है, किन्तु कम्प्यूटर का वास्तविक अर्थ इन सबसे कहीं अधिक है। वास्तव में कम्प्यूटर दो प्रमुख भागों से मिलकर बना होता है-हार्डवेयर तथा सॉफ्टवेयर। कम्प्यूटर के वे भाग जो दिखाई देते हैं और जिनको छुआ जा सकता है, हार्डवेयर कहलाते है। दूसरी ओर, जिन भागों को देखा व छुआ नही जा सकता, सॉफ्टवेयर कहलाते हैं। दूसरे शब्दों में हार्डवेयर पर किसी विशेष कार्य को करने के लिए निर्देशों के समूह को सॉफ्टवेयर कहते हैं।

सॉफ्टवेयर हमारे सिस्टम को कार्यशील बनाता है। यह निर्देशों का एक सैट होता है। सॉफ्टवेयर ही कम्पयूटर को इण्टेलीजेन्स देता है तथा यूजर सॉफ्टवेयर पर ही कार्य करता है। सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं सिस्टम सॉफ्टवेयर, जोकि हार्डवोयर को हार्डवेयर से या हार्डवेयर को सॉफ्टवेयर से जोड़ने का कार्य करते हैं। जैसे प्रिण्टर का ड्राईवर। कुछ हार्डवेयर ऐसे होते हैं, जिसमें सॉफ्टवेयर इमडेड होता है वो डिवाइसें फर्मवेयर कहलाती हैं। दूसरा सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर होता है जिस पर यूटर अपना एप्लीकेशन करता है जैसे नोटपैड, एमएस ऑफिस, गेम आदि। इसके अतिरिक्त कुछ और प्रकार के सॉफ्टवेयर होता हैं जैसे यूटिलिटि सॉफ्टवेयर। When we think of a computer, we generally picturise computer hardware : the monitor, the keyboard and the electronic circuitry contained within the rectangular case. However, there is more to a computer than this. The set of instructions that tells the computer how to operate the hardware is called software. It gives intelligence to computer. Software is a generic term for organized collections of computer data and instruction, often broken into two major categories-system software that provides the basic non-task-specific functions of the computer and application software which is used by users to accomplish specific tasks. A computer system is made up of an arrangement of hardware and software components. The physical and tangible parts/components of a computer that can be seen and touched are called hardware. When we look at the computer, we are actually looking at the computer hardware.

कम्प्यूटर हार्डवेयर

It consists the physical components computer like input devices, output devices, processing device (like CPU) and storage device. A Computer (personal computer as a desktop)Contains the following parts:

    • मदरबोर्ड (Motherboard) It holds the CPU, main memory and other parts and has slots for expansion cards.
    • यूपीएस (UPS-Uninterruptible Power Supply A case that holds a transformer, voltage control and fan.
    • स्टोरेज कंट्रोलर्स (Storage Controllers) of IDE. SCSI or other type, that control hard disk, floppy disk, CD-ROM and other drives; the controllers sit directly on the motherboard (on-board) or on expansion cards.
    • ग्राफिक्स कंट्रोलर (Graphics Controller) It produces the output for the monitor.
    • स्टोरेज माध्य (Storage Mediums) Hard disk, floppy disk and other drives for mass storage.
    • इण्टरफेस कंट्रोलर्स (Interface Controllers) (Parallel, Serial, USB, Firework) to connect the computer to external peripheral devices such as printers or scanners.

सॉफ्टवेयर के प्रकार (Types of software)

मुख्यत: सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होते हैं। (i ) सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software) यह वे सॉफ्टवेयर होते हैं, जिनका प्रयोग हार्डवेयर को प्रबन्ध तथा नियन्त्रित करने में होता है, जिससे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर अपना कार्य पूरा कर सके। ये सॉफ्टवेयर कई प्रकार के होते हैं। These are the software use to manage and control the hardware so that the application software can complete  tasks, For example – Operating system, Compiler, Interpreter, Assembler, Linker, Loader, Debugger etc. (ii) एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर ( Application Software ) ये सॉफ्टवेयर विशेष उपयोगों के लिए बनाए जाते हैं। इन सॉफ्टवेयरों को विभिन्न सामान्य बिल बुक, बीमा कम्पनियाँ आदि। These software are design to perform a group of co – ordinates functions. tasks or activities for the benefit of ends user.

Like Our Facebook Page for More CCC Study Material and Notes

See Also : CCC Question Answers/Papers

Back to Index -(CCC Study Material / Notes in Hindi and English)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *