68500 Assistant Teacher Bharti Vartanee Ashuddhiyaan Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Vartanee Ashuddhiyaan Study Material in Hindi

68500 Assistant Teacher Bharti Vartanee Ashuddhiyaan Study Material in Hindi

वर्तनी अशुद्धियां

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न

Very Short Question Answer

68500 Assistant Teacher Bharti Vartanee Ashuddhiyaan Study Material in Hindi
68500 Assistant Teacher Bharti Vartanee Ashuddhiyaan Study Material in Hindi

प्रश्न – वर्तनी अशुद्धियां कितने प्रकार की होती हैं?

उत्तर – वर्तनी अशुद्धियां निम्नलिखित होती हैं-स्वर और मात्रा संबंधित, संधि संबंधित, हलंत संबंधित, समास संबंधित, उपसर्ग और प्रत्यय संबंधित तथा व्यंजन संबंधित अशुद्धियां।

प्रश्न – पुज्यनीय की सही वर्तनी क्या है?

उत्तर – ‘पूजनीय’ सही वर्तनी वाला शब्द है।

प्रश्न – परिक्षा की सही वर्तनी क्या है?

उत्तर – परिक्षा की सही वर्तनी है ‘परीक्षा’।

प्रश्न – रचियता की सही वर्तनी क्या है?

उत्तर – रचियता की सही वर्तनी ‘रचयिता’ है।

प्रश्न – साहित्यीक की सही वर्तनी क्या है?

उत्तर – साहित्यीक का सही वर्तनी वाला शब्द ‘साहित्यिक’ है।

प्रश्न – महूरत की सही वर्तनी क्या है?

उत्तर – महूरत की सही वर्तनी वाला शब्द ‘मुहुर्त’ है।

प्रश्न – वर्षा रितु का सही वर्तनी वाला शब्द क्या है?

उत्तर – वर्षा रितु का सही वर्तनी वाला शब्द ‘वर्षा ऋतु’ है।

प्रश्न – प्रज्जवलित का सही वर्तनी वाला शब्द क्या है?

उत्तर – सही वर्तनी वाला शब्द ‘प्रज्वलित’ है।

प्रश्न – लिपी का सही वर्तनी वाला शब्द क्या है?

उत्तर – लिपी का सही वर्तनी वाला शब्द ‘लिपि’ है।

प्रश्न – महर्षी का सही वर्तनी वाला शब्द क्या है?

उत्तर – महर्षी का सही वर्तनी वाला शब्द ‘महर्षि’ है।

प्रश्न – औषधि की सही वर्तनी क्या है?

उत्तर – ‘ओषधि’ शब्द वर्तनी की दृष्टि से सही है।

लाल छपे शब्दों का शुद्ध रुप चुनिए-

प्रश्न – बच्चों को आगे पढ़ने के लिए वजिफा दिया जाता है।

उत्तर – ‘वजीफ़ा’ शुद्ध वर्तनी वाला शब्द है।

प्रश्न – बुढ़ापा दोर्बल्य का सूचक है।

उत्तर – ‘दौर्बल्य’ शुद्ध वर्तनी वाला शब्द है।

विशिष्ट परीक्षा सामग्री

अशुद्धशुद्ध
अन्धाअंधा
अनभिग्यअनभिज्ञ
अहारआहार
अपरान्हअपराहृ
अनुग्रहीतअनुगृहीत
अनुवादितअनूदित
अकृतिमअकृत्रिम
अजानवाहुआजानुवाहु
अन्तर्ध्यानअन्तर्धान
अनुशरणअनुसरण
अमावश्याअमावस्या
असुद्धअशुद्ध
अध्यनअध्ययन
आधिक्यताआधिक्य
अक्षादनआच्छादन
औगुणअवगुण
अध्यात्मकआध्यात्मिक
अदितीयअद्वितिय
अराधनाआराधना
आसाढ़आषाढ़
उश्रृंखलउच्छृंखल
उलंघनउल्लंघन
उन्नतीउन्नति
उरीड़उऋण
उदिग्नउद्विग्न
उदेश्यउद्देश्य
ऐक्यताऐक्य
एश्वर्यऐश्वर्य
कृंशागिनीकृशांगी
कौशिल्याकौशल्या
कृत्यकृत्यकृतकृत्य
कृतघ्नीकृतघ्न
केन्द्रियकरणकेन्द्रीयकरण
क्रिपाकृपा
किर्तिकीर्ति
कृप्याकृपया
कैलाशकैलास
कालीदासकालिदास
ईर्षाईर्ष्या
उपासनाउपासना
अरपनअर्पण
अन्ताक्षरीअन्त्याक्षरी
आस्विकारअस्वीकार
अभिसेकअभिषेक
आधीनअधीन
अन्तर्कथाअन्त:कथा
अनाधिकारअनधिकार
आतीथेयअतिथेय
आकंक्षाआकांक्षा
आर्शीवादआशीर्वाद
अपन्हुतिअपह्नुति
आट्टालिकाअट्टटालिका
आर्दआर्द्र
अवश्यकीयआवश्यक
आल्हादआह्लाद
औतारअवतार
आजिवकाआजीविका
अमिसआमिष
आसाआशा
अश्मसानश्मशान
उज्वलउज्जवल
उतपातउत्पात
उन्मिलितउन्मीलित
ऊर्मीलाउर्मिला
उपरऊपर
उपलक्षउपलक्ष्य
ऐकदन्तएकदन्त
ऐतीहासिकऐतिहासिक
कुवरकुंअर
कोमलांगिनीकोमलांगी
कार्यकर्मकार्यक्रम
करोणकरोड़
कियारीक्यारी
कुन्जकुंज
करयक्रय
कवियत्रीकवयित्री
कन्हेयाकन्हैया
कर्त्तव्यपालनकर्त्तव्य-पालन
इश्वरईश्वर
उद्धरड़उद्धरण
गायिकीगायकी
गौवोंगायों
गरुणगरुड़
गोपनियगोपनीय
गर्मीयोंगर्मियों
चिहनचिन्ह्
छत्रीक्षत्रिय
छुधाक्षुधा
ज्योत्सनाज्योत्स्ना
जाग्रितिजागृति
जगत जननीजगज्जननी
तलावतालाब
तरुछायातरुच्छाया
तृकालत्रिकाल
त्रिगूड़त्रिगुण
दारिद्रतादरिद्रता
दीवारात्रिदिवारात्र
देश-निकालादेशनिकाला
दुरावस्थादुरवस्था
दृष्यदृश्य
दोसदोष
धनुसधनुष
निलकंठनीलकंठ
नीरवाणनिर्वाण
नारायड़नारायण
नि:पराधनिरपराध
निरसतानीरसता
नराजनाराज
नारिनारी
पतीतपतित
प्रेयसिप्रेयसी
प्रतीज्ञाप्रतिज्ञा
प्रशन्नप्रसन्न
पुरष्कारपुरस्कार
पुस्पपुष्प
पयपानपय:पान
पैत्रिकपैतृक
पुजापूजा
परिसदपरिषद
पुलिंगपुल्लिंग
प्रादेसिकप्रादेशिक
प्राप्तीप्राप्ति
गृहीणीगृहिणी
गाधीगाँधी
गरीष्ठगरिष्ठ
ग्रीहस्थगृहस्थ
गावगाँव
चन्चलचंचल
छमाक्षमा
छेमक्षेम
जमाताजामाता
जात्याभिमानजात्यभिमान
जगधात्रीजगदधात्री
त्यज्यत्याज्य
तत्कालिकतात्कालिक
तालासीतलाशी
तिलांजलीतिलांजलि
दांतदाँत
दूरात्मागणदुरात्मगण
दयालदयालु
द्रस्टव्यद्रष्टव्य
द्वारीकाद्वारका
द्रिगदृग
धिमान्धीमान्
नीवारणनिवारण
निस्चेस्टनिश्चेष्ट
नबाबनवाब
निर्दयीनिर्दय
निष्कपटीनिष्कपट
निष्छलनिश्छल
निरोग्यनिरोग
पुष्पवलिपुष्पावली
प्रदर्शीनीप्रदर्शनी
प्रत्यछप्रत्यक्ष
प्राशादप्रासाद
पोशकपोषक
परिछेदपरिच्छेद
परिनामपरिणाम
पारड़पारण
पिता भक्तिपितृभक्ति
परीच्छापरीक्षा
पौरुसपौरुष
परेमप्रेम
पिशाचिनीपिशाची
परमोषधिपरमौषधि
प्रमाणिकप्रामाणिक
प्रनामप्रणाम
प्रतिछायाप्रतिच्छाया
बृक्षवृक्ष
वाल्मीकीवाल्मीकि
वाहनीवाहिनी
बिराटविराट्
व्यापितव्याप्त
विश्लेसणविश्लेषण
बहिस्कारविश्लेषण
भस्मिभूतभस्मीभूत
भंडारभण्डार
महात्ममहात्म्य
मान्यनीयमाननीय
मेनहतमेहनत
मट्टीमिट्टी
यदयपियद्यपि
यसयश
योगीवरयोगिवर
राजनैतिकराजनीतिक
रीतुऋतु
रिणऋण
विद्वानविद्वान्
विश्वभरविश्वम्भर
वीदेहविदेह
शिरोपीड़ाशिर:पीड़ा
शताब्दिशताब्दी
साप्ताहीकसाप्ताहिक
सौख्यतासौख्य
स्वास्थस्वास्थ्य
सन्मुखसम्मुख
सर्वस्यसर्वस्व
हस्तछेपहस्तक्षेप
ऋषीकेसऋषिकेश
सन्चारसंचार
सहस्त्रसहरत्र
समिक्षासमीक्षा
सम्भवतहसम्भवत:
सहीष्णुसहिष्णु
सौन्दर्यतासुन्दरता
सम्राज्यसाम्राज्य
सार्वजनीकसार्वजनिक
स्वालम्बनस्वावलम्बन
स्वयंम्बरस्वयंवर
प्राज्वलितप्रज्वलित
प्रसंसाप्रशंसा
वीराजमानविराजमान
विरहीणीविरहिणी
ब्रम्हाब्रह्रा
वीधिविधि
बहुल्यताबहुलता
ब्रिजब्रज
विषेसविशेष
भव-सागरभवसागर
भ्रातागणभ्रातृगण
म्रित्युञ्जयमृत्युञ्जय
मनोग्यमनोज्ञ
मन्त्रीमंडलमन्त्रिमंडल
महायग्यमहायज्ञ
योधायोद्धा
यावत जीवनयावज्जीवन
यशलाभयशोलाभ
राजागणराजगण
राजऋषिराजर्षि
राजनराजन्
विरहणीविरहिणी
विसमृतविस्मृत
विकाशविकास
वेषवेश
शशीशशि
शान्तमयशान्तिमय
सन्याससंन्यास
सौन्दर्यानुभूतिसौन्दर्यानुभूति
साम्यतासाम्य
संग्रहितसंगृहीत
हतिबुद्धहतबुद्धि
हिरण्यकश्यपुहिरण्यकशिपु
स्वक्षस्वच्छ
स्थितीस्थिति
सतीगुणसत्वगुण
सुश्रुषाशुश्रूषा
स्थाईस्थायी
सम्वादसंवाद
सवारनासंवारना
सौजन्यतासौजन्य
सततसतत्
साहीत्यिकसाहित्यिक
सर्जनसृजन

स्वर मात्रा सम्बन्धी अशुद्धियां

अशुद्धशुद्ध
युधिष्ठरयुधिष्ठिर
द्वारिकाद्वारका
निरपराधीनिरपराध
प्रमाणिकप्रामाणिक
विशिष्ठविशिष्ट
उर्ध्वऊर्ध्व
प्रिथाप्रथा
जागृतजाग्रत
अनुदितअनूदित
पैत्रिकपैतृक
ऐषणाएषणा
अन्त्यक्षरीअन्त्याक्षरी
मालनमालिन
निरसतानीरसता
निर्दयीनिर्दय
निरापराधनिरपराध
भगीरथीभागीरथी
आजीवकाआजीविका
विरहणीविरहिणी
कवियित्रीकवयित्री
तदान्तरतदनन्तर
बृजब्रज
निष्कपटीनिष्कपट
ग्रहीतगृहीत
दृष्टाद्रष्टा
सुश्रुषाशुश्रूषा
विक्षवृक्ष
एकान्तिकऐकान्तिक
परलौकिकपारलौकिक
अहिल्याअहल्या
अनुगृहअनुग्रह
अनाधिकृतअनधिकृत
स्थायीत्वस्थायित्व
कुमदनीकुमुदिनी

 

सन्धि सम्बन्धी अशुद्धियां

अशुद्धशुद्ध
परिछेदपरिच्छेद
तत्मयतन्मय
षट्ऋतुषड्ऋतु
पितृणपितृऋण
यशलाभयशोलाभ
उदिग्नउद्विग्न
विद्युतचालकविद्युच्चालक
नदेशनदीश
दुरावस्थादुरवस्था
पुनराभिनयपुनरभिनय
इतिपूर्वइत:पूर्व
निरोपमनिरुपम
बाड.गमयवाड्.मय
पुष्पवलीपुष्पावली
उपरोक्तउपर्युक्त
मनज्ञमनोज्ञ
निरपायनिरुपाय
निष्छलनिश्छल
दुष्तरदुस्तर
विद्युत्तलताविद्युत्लता
परमोषधिपरमौषधि
तरुछायातरुच्छाया
मनोकामनामन:कामना
रीत्यानुसाररीत्यनुसार
अधगतिअधोगति
राजऋषिराजर्षि
दिगजालदिग्जाल
सत्वंशसद्वंश
मनोकष्टमन:कष्ट
अन्तरप्रान्तीयअन्त:प्रान्तीय
अक्षोहिणीअक्षौहिणी
मतेक्यमतैक्य
सत्गतिसद्गति
अत्योक्तिअत्युक्ति
जगतनाथजगन्नाथ
मनहरमनोहर
निष्तारनिस्तार

हलंत सम्बन्धी अशुद्धियां

अशुद्धशुद्ध
अकस्मातअकस्मात्
भविष्यतभविष्यत्
दृश्यमानदृश्यमान्
च्युतच्युत्
वणिकवणिक्
हुतभुकहुतभुक्
श्रीयुतश्रीयुत्
प्रत्युतप्रत्युत्

 

समास सम्बन्धी अशुद्धियां

अशुद्धशुद्ध
दिवारात्रिदिवारात्र
सानन्दितसानन्द
भ्रातागणभ्रातृगण
सतोगणसत्वगण
कृतघ्नोंकृतघ्न
वक्तागणवक्तृगण
अहर्निशिअहिर्निश
आत्मापुरुषआत्मपुरुष
दुरात्मागणदुरात्मगण
गुणीगणगुणिगण
योगीवरयोगिवर
प्राणीवृन्दप्राणिवृन्द
मंत्रीवरमंत्रिवर
सलज्जितसलज्ज
सशंकितसशंक
शान्तमयशान्तिमय

 

उपसर्ग और प्रत्यय सम्बन्धी अशुद्धियां

अशुद्धशुद्ध
गोपितगुप्त
अभलअनभल
द्वैवार्षिकद्विवार्षिक
औगुणअवगुण
औतारअवतार
अग्नेयआग्नेय
अर्धशासकीयअर्द्धशासकीय
लव्धप्रतिष्ठिलब्धप्रतिष्ठ
भुंजगिनीभुजंगी
प्रेयसिप्रेयसी
कोमलांगिनीकोमलांगी
चरुताईचारुता
विद्रूपताविरुपता
प्रफुल्लितप्रफुल्ल
ज्ञानमानज्ञानवान
अधिदैविकआधिदैविक
अनवासिकअनावासिक
अनुषांगिकआनुषंगिक
प्रतिनिधिकप्रातिनिधिक
कृशाँगिनीकृशांगी
सुलोचनासुलोचना
चातकनीचातकी

 

व्यंजन सम्बन्धी अशुद्धियां

अशुद्धशुद्ध
प्रवृतनीयप्रवर्तनीय
सौन्दर्यत्वसौन्दर्य
आहवानआह्वान
आल्हादआह्लाद
असाम्यताअसाम्य
उश्रृंखलउच्छृंखल
वहिरंगबहिरंग
गरिष्टगरिष्ठ
पटाच्छेपपटाक्षेप
पारंगकपारंगत
महात्ममाहात्म्य
स्मसानश्मशान
बिस्मृतविस्मृत
यथेष्ठयथेष्ट
सर्जनसृजन
अन्तर्ध्यानअन्तर्धान

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

Leave a Comment

Your email address will not be published.