M1 R4 Computer Structure Study Material in Hindi

M1 R4 Computer Structure Study Material in Hindi

M1 R4 Computer Structure Study Material in Hindi :- इस पोस्ट में आपकों मिलेगीं एक कम्प्यूटर की सँरचना ( Anatomy) से जूड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट), इनपटु यूनिटस्, आउटपुट यूनीटस्, स्टोरेज डिवाइसिस, कम्पूनिकेशन इंटरफेस आदि के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी।

M1 R4 एक कम्प्यूटर की सँरचना (Anatomy) Study Material in Hindi

एक डिजिटल कम्प्यूटर की पाँच मुख्य फंक्शन (functional) यूनिट
  • सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट)
  • इनपुट यूनिटस्
  • आउटपुट यूनीटस्
  • स्टोरेज डिवाइसिस
  • कम्यूनिकेशन इंटरफेस
सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) कम्प्यूटर का मस्तिष्क होता है भाग सीपीयू के साथ डाटा ट्रांसफर करने एवं संपर्क स्थापित करने के लिए इस्तेमान किए जाते हैं। इसमें मेन मेमोरी, कंट्रोल यूनिट एवं ऐरिथमैटिक लॉजिक यूनिट (Arithmetic Logic Unit) होती है। नीचे चित्र में बेसिक कम्प्यूटर संगठन का एक ब्लॉक डायग्राम दिखाया गया है। इस चित्र में गाढ़ी रेखाओं का प्रयोग डाटा एवं निर्देशों के प्रवाह को दर्शाने के लिए किया है जबकि रेखाओं का प्रयोग कंट्रोल यूनिट द्वारा के जा रहे कंट्रोल कार्य को दर्शाने के लिए किया है इस चित्र में कम्प्यूटर की विभिन्न यूनिटस की बैसिक बिल्डिंग ब्लॉक अथवा फंक्शन यूनिटस को दर्शाता है। ये पाँच मुख्य यूनिटस् पाँच लग अलग कार्यों के लिए होती है, जिनके नाम हैं, इऩपुट करना, स्टोर करना, प्रोसेस करना, आउटपुट भेजना एवं सभी कम्प्यूटर सिस्टमस् से लाए गए डाटा का नियंत्रण करना। निम्नलिखित पैराग्राफस् में इन पाँचों यूनिटस का वर्णन किया जा रहा है: इनपुट करना: इसका अर्थ है यूजर द्वारा किसी एक इनपुट डिवाइस जैसे कीबोरर्ड का उपयोग करके डाटा को कम्प्यूटर में एटर करने की प्रक्रिया।
M1 R4 Computer Structure Study Material in Hindi
M1 R4 Computer Structure Study Material in Hindi
स्टोर करना: इसका अर्थ है डाटा एवम् निर्देशों को कम्प्यूटर की मुख्य मेमोरी में रोके रखना जिससे उनका परिचालन हो सके। प्रोसेस करना: इनका अर्थ है कम्प्यूटर में एटर के गए डाटा का परिचालन करना अथवा उन पर ऐरिथमैटिक एवं लॉजिकल दोनों तरह के ऑपरेशन करना, जिससे हम एंटर किए गए डाटा में से उपयोगी सूना बाहर निकाल सकें। आउटपुट भेजना: इसका अर्थ है यूजर को स्क्रीन (मॉनीटर) अथवा पेपर (प्रिंटर के द्वारा) पर सूचना अथवा रिजल्ट दिखाए जाने की प्रक्रिया। कंट्रोल करना: इसका अर्थ है उपरोक्त सभी प्रक्रियाओं को समन्वित तरीके से निर्देशित करना। यह कंट्रोलिंग प्रक्रिया के अंदर स्थित कंट्रोल यूनिट द्वारा की जाती है सीपीयू कम्प्यूटर का मस्तिष्क है। इसका मुख्य कार्य है प्रोग्रामस् को एक्जीक्यूट करना। इसके साथ साथ सीपीयू अन्य भागों जैसे मेमोरी, इनपुट एवं आउटपुट डिवाइसिस के कार्यों को भी कंट्रोल करता है। सीपीयू के कंट्रोल के अंतर्गत प्रोग्राम एवं डाटा मेमोरी में स्टोर होते हैं तथा रिजल्ट मॉनीटर पर प्रदर्शित होते हैं अथवा पेपर पर प्रिंट होते हैं।

M1 R4 हार्डवेयर (Hardware) Study Material in Hindi

कम्प्यूटर के भौतिक भागों को हार्डवेयर कहा जाता है। ये भौतिक भाग इलेक्ट्रिकल, मैग्नेटिक, मैकेनिकल अथवा ऑप्टिकल कुछ भी हो सकते हैं। ऐसे किछ भाग हैं: माइक्रोप्रोसेसर, इंटीग्रेटेड सर्किट (ICs), हार्डडिस्क, फ्लॉपीडिस्क, ऑप्टिकल डिस्क, कलर मॉनिटर, कीबोर्ड प्रिंटर एवं प्लॉटर आदि

M1 R4 इनपुट डिवाइस (Input Device) Study Material Notes in Hindi

इनपुट डिवाइसिस द्वारा डाटा एवं निर्देशों को कम्यूटर में एंटर किया जाता है। सर्वप्रथम एक इनपुट डिवाइस आवश्यक इनपुट डाटा एवं निर्देशों को उचित बाइनरी रूप (0 एवं 1) में परिवर्तित करती है एवं इसके बाद इसे सीपीयू में भेजती है। आमतौर पर इस्तेमान होने वाली इनपुट डिवाइस कीबोर्ड है कुछ अन्य इनपुट डिवाइसिस भी विकसित ही गई है जिसमें टाइपिंग की आवश्यकता नहीं होती है। ये है: माउस (Mouse) ट्रैकबॉल (Trackball) ग्राफिक टैबलैट (Graphic Table) जॉयस्टिक (Joystick) लाइटपेन (Light Pen) टच स्क्रीन (Touch Screen) उपरोक्त डिवाइसिस यूजर को कम्प्यूटर की स्क्रीन पर पॉइंट करके किसी इन्हें पॉइंटिग डिवाइसिस भी कहा जाता है। वॉएस (Voice) इनपुट सिस्टम्स का भी विकास किया गया है इन डिवाइसिस में एक माइक्रोफोन का उपयोग एक इनपुट के रूप में किया जाता है। कुछ ऐप्लीकेशनस् में, जहाँ कम्प्यूटर विजन की आवश्यकता होती है, जैसे रोबोट एवं कम्प्यूटर आधारित रिक्योरिटी सिस्टम आदि, में कम्प्यूटर ऑप्टिकल एवं सेमीकंडक्टर डिवाइसिस का उपयोग करते हैं जो लाइट के प्रति संवेदी होती हैं। इस तरह के इनपुट डिवाइसिस इमेजिस एवं पिक्चर्स के अनुरूप डिजिटल सिग्नल उत्पन्न करते हैं।

M1 R4 आउटपुट डिवाइस (Output Device) Study Material in Hindi

आउटपुट डिवाइस का प्रयोग कम्प्यूटर में स्टोर की गई सूचनाओं अथवा किसी भी प्रोसेसिंग के रिजल्ट को बाहरी विश्व तक पहुँचाने के लिए किया जाता है। इस कार्य के लिए कई तरह की आउटपुट डिवाइसिस बनाई गई हैं लेकिन सबसे अधिक इस्तेमाल होने वाली डिवाइसिस है वीडियों मॉनीटर एवं प्रिंटर। प्रिंटर, कागज पर प्रिंटेड रिकॉर्ड प्रदान करते हैं। जिन्हें स्थाई रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है

M1 R4 सेट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) Study Material in Hindi

एक सेट्रल प्रोसेसिंगह यूनिट का मुख्य कार्य निर्देशों अथवा प्रोग्रामों को ऐग्जीक्यूट करना है। इसके अलावा, प्रोसेसिंग यूनिट अन्य सभी भागों जैसे मेमोरी, इनपुट एवं आउटपुट डिवाइसिस के कार्यों को भी कंट्रोल करती है। प्रोसेसिंग यूनिट के कंट्रोल के अंतर्गत इनपुट डिवाइसिस से प्रोग्राम के अनुसार प्रोसेसिंग होने के बाद आउटपुट या तो वीडियों स्क्रीन पर प्रदर्शित किया जाता है अथवा पेपर पर प्रिंट किया जाता है। एक छोटे कम्प्यूटर की प्रोसेसिंग यूनिट में सामान्यत: एक ही प्रोसेसर होता है। परन्तु बड़े कम्प्यूटर्स की प्रोसेसिंग यूनिट मं कई प्रोसेसर हो सकते हैं। बड़ी प्रोसेसिंग यूनिट का प्रत्येक प्रोसेसर इसे दिया गया निश्चित कार्य ही करता है। एक सेट्रल प्रोसेसिंग यूनिट के मुख्य भाग है: प्राइमरी अथवा मेन मेमोरी ऐरिथमैटिक एवं लॉजिक यूनिट (ALU) कंट्रोल यूनिट (CU) मेमोरी (Memory) मेमोरी एक कम्प्य़ूटर सिस्टम का आवश्यक भाग है। कम्प्यूटर सिस्टम को इसकी आवश्यकता डाटा और निर्देशों को स्टोर करने के लिए होती है। मेमोरी को निम्न दो प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

 M1 R4 सेकेंड्री मेमोरी या सहायक (Auxiliary) मेमोरी Study Material in Hindi

सेकेंड्री मेमोरी या सेकेंड्री स्टोरेज डिवाइस स्थाई स्टोरेज यूनिट होती है जो प्रोग्राम और डाटा स्टोर करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। ये 1 और 0 को स्टोर करने के लिए चुबकत्व के सिद्धान्त का प्रयोग करती है। इसलिए इन्हें मैग्नेटिक मेमोरी भी कहा जाता है। ये अवाष्पीय (non volatile) होतीहै अर्थात यद्दपि पॉवर स्वच ऑफ हो जाऐ तब भी मेमोरी को अंतर्वस्तु (Contents) सुरक्षित रहती है। सेकेंड्री स्टोरेज डिवाइसिस के उदाहरण है मैग्नेटिक टेप, मैग्नेटिक डिस्क, कॉम्पैक्ट डिस्क, मैग्नटिक बबल मेमोरी, मैग्नेटिक ड्रम, जिप डिस्क आदि। अपेक्षाकृत धीमी गति की मैग्नेटिक टेपों का प्रयोग बहुत पुरानी फाइलों को स्टोर करने के लिए किया जाता है। मैग्नेटिक डिस्क का प्रयोग बैकअप कार्यों के लिए डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है वह डिस्क, जो स्थाई रूप से कम्प्यूटर यूनिट से जुड़ी रहती है एवं आम यूजर द्वारा आसानी से नहीं निकाली जा सकती है, को हार्डडिस्क कहा जाता है। फ्लाँपी डिस्क एक हटाई जा सकने वाली डिस्क है। ऩई तरह की डिस्क जिन्हें जिप डिस्क (फ्लापी डिस्क के आकार के बराबर) एवं पेन ड्राइव कहा जाता है, आज कल उपलब्ध है जो आपकों 8GB या उससे भी अधिक डाटा स्टोर करने की सुविधा देती है।

M1 R4 प्राइमरी मेमोरी या मेन मेमोरी (Main Memory) Study Material Notes in Hindi

प्राइमरी मेमोरी छोटी और अपेक्षाकृत तीव्र स्टोरेज यूनिट है जो उन डाटा और निर्देशों को स्टोर करती है जो सीपीयू द्वारा अभी इस्तेमाल किया जा रहैं है। स तरह की मेमोरी को मेन मेमोरी भी कहा जाता है। प्राइमरी मेमोरी अस्थाई मेमोरी होती है। यह अपनी अतर्वस्तु को तभी तक स्टोर करके रखती है जब तक कम्प्यूटर स्विच ऑन अवस्था में रहता है। जैसे ही आप अपना पीसी स्विच ऑन अवस्था में रहता है। जैसे ही आप अपना पीसी स्विच ऑफ करते है, मेन मेमोरी अपनी अंतर्वस्तु को खो देती है। Life Our Facebook Page See Also : O Level Study Material Notes Sample Model Practice Question Papers with AnswersO Level

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *