M1 R4 File Management in Windows XP Study Material in Hindi

M1 R4 File Management in Windows XP Study Material in Hindi

M1 R4 File Management in Windows XP Study Material in Hindi : इस पोस्ट में आपकों मिलेगी विंडोज XP में फाइल मैनेजमेंट (File Management in Windows XP) से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे फाइल, फोल्डर, आदि।

M1 R4 विंडोज़ XP में फाइल मैनेजमेंट Study Material in Hindi

फाइल और फोल्डर विंडोज़ ऑपरेटिंग सिस्टम के दो सर्वाधिक मौलिक कॉन्सेप्ट होते हैं। आप एक पीसी में जैसे ही अपने कार्य को सेव करते हैं आप फाइल या फेल्डर बनाते या उन्हे ऑर्गनाइज़ करते हैं।

फाइल

एक फाइल, संबधित सूचनाओं का एक संग्रह है जिसे एक नाम देकर एक डिस्क पर स्टोर किया जाता है ताकि जब भी जरूरत पड़े तब इसे पढ़ा और मैनीपुलेट किया जा सकता है।एक फाइल में किसी भी प्रकार की सूचना हो सकती है: एक प्रोग्राम या ऐप्लीलेशन या डॉक्यूमेट का एक भाग जैसे टेबल या एक ग्राफिक, एक साउंड या म्यूजिक का एक टुकड़ा आदि।

M1 R4 फोल्डर Study Material Notes in Hindi

जैस जैसे आप विंडोज में काम करते जाते हैं आप देखते हैं कि एक हार्ड डिस्क में सैंकड़ों फाइल्स होती है। इससे पहले कि आप अपनी फाइल बनाएं आप को लगता है कि पहले से बनी फाइल्स को यदि उचित ढंग से व्यवस्थित न किया गया तो उनका ट्रैक रखना मुश्किल हो जाएगा अत: विंडोज में फाइल्स को मैनेज करने के लिए जो मौलिक डिवाइस होती है उसे फोल्डर कहा जाता है।एक फोल्डर एक विशेष प्रकार की फाइल होती है जिसमें कुछ अन्य फाइल्स या सब फोल्डर्स की एक लिस्ट होती है। जब एक फोल्डर को खोला जाता है, इसकी अपनी विंडो होती है, एवं इससे रखी फाइल्स उस विंडों में दिखाई देती हैं।

फोल्डर ट्री

फोल्डर सिस्टम की व्यवस्थागत क्षमता इस बात में निहित होती है कि यह हैरार्किकल होती है।हैरार्किकल का अर्थ है फोल्डर्स में अन्य फोल्डर भी रखे जा सकते हैं। इस विशेषता के कारण आप कई सारे फोल्डर्स को व्यवस्थित करके उनका ट्रैक रख सकते हैं।यदि एक फोल्डर A फोल्डर B में हैं तो फोल्डर A  को फोल्डर B का सब फोल्डर कहा जाता है। कोई भी फोल्डर जितने आप चाहते हैं उतने सब फोल्डर रख सकता है, लेकिन प्रत्येक सब फोल्डर (प्रत्येक फाइल की ही तरह) केवल एक ही फोल्डर में रह सकता है। और इस प्रकार, एक डायग्राम जिसमें यह दिखाया जाता है कि कौन सा फोल्डर, कौन से दूसरे फोल्डर के अंदर रखा गया है, एक फैमिली ट्री की तरह दिखाई देता है। इस डायग्राम को ही फोल्डर ट्री या फोल्ड़र हैरार्की कहते हैं।विंडोज हेल्प में इसे फोल्डर लिस्ट कहा जाता है। फोल्डर ट्री के सबसे ऊपर, फोल्डर फैमिली का फाउंडर होताता है, जिसे डेस्क टॉप कहते हैं। डेस्कटॉप के बाद माई कम्प्यूटर आदि होते हैं एवं अन्य अतिरिक्त फाइल्स व फोल्डर होते हैं जिन्हें आपने डेस्कटॉप पर कॉपी किया होता है। माई कम्प्यूटर के नीचे आपके सिस्टम के स्टोरेज मीडिया के सभी आयकन होते हैं जो हाई ड्राइव, फ्लॉपी सीडी रॉम आदि को दर्शाते हैं। फाइल एवं फोल्डर्स के मौलिक कार्य निम्न हैं:सिलेक्ट करनाबनानानाम रखनाखोलना

फाइल्स एवं फोल्डर्स को सिलेक्ट करना

विंडोज में कार्य करने का नियम है, सिलेक्ट करों फिर आगे की काम करों अर्थात आप जिस फाइल एवं फोल्डर, आयकन्स द्वारा विंडोज एवं फोल्डर में दर्शाएं जाते हैं और इनका नाम इन आयकन्स के नीचे प्रिंट होता है।एक फाइल या फोल्डर को सिलेक्ट करने के लिए निम्न करें:वेब स्साइल व्यू में, एक फाइल या फोल्डर को सिलेक्ट करने के लिए कर्सर को इसके आयकन पर ले जाओं। जब आयकन हाई लाइटेड दिखे तो इसका अर्थ है ऑब्जेक्ट सिलेक्ट हो गया है।क्लासिकल स्टाइल में, एक ऑब्जेक्ट सिलेक्ट करने के लिए, उस ऑब्जेक्ट पर सिंगल क्लिक करों।एक फोल्डर के सभी आइटमों को सिलेक्ट करने के लिए ये करेंएक फोल्ड को खोलों। एडिट मेन्यू को क्लिक करों और सिलेक्ट ऑल पर क्लिक करो या कीबोर्ड पर  Ctrl + A  दोनों keys  का एक साथ दबाओं।

M1 R4 फाइल्स एवं फोल्डर बनाना Study Material Notes in Hindi

नई फाइल या फोल्डर बनाने के लिए:विंडोज ऐक्सप्लोरर या फोल्डर विंडों में से फाइल मेन्यू को क्लिक करों और फिर न्यू को चुनें। या डेस्कटॉप के खाली स्थान में माउस राइट क्लिक करके फिर न्यू को चुनें।दोनों स्थितियों में, एक सब मेन्यू में आप नई ऑब्जेक्ट जो आप बना सकते हैं जैसे फोल्डर, शॉर्टकट, एवं कई प्रकार की फाइल्स आदि की सूची देख सकतेसूची से एक ऐलीमेंट को सिलेक्ट करों विंडोज XP सिलेक्ट की गई ऑब्जेक्ट को बनाता है।फाइल्स एवं फोल्डर्स का नामकरण करनाएक फाइल या फोल्डर को पुन: नामकरण या रीनेम करने के लिए:उस फाइल या फोल्डर को सिलेक्ट करों जिसे आप रीनेम करना चाहते है। फाइल मेन्यू पर क्लिक करके रीनेम पर क्लिक करों। या फाइल फोल्डर पर राइट क्लिक करके कॉन्टेक्स्ट मेन्यू में से रीनेम चुनों या  F2 key दबाओ।एक बॉक्स, करेंट नाम के चारों ओर दिखेगा, एवं पूरा नाम सिलेक्ट होगा। बॉक्स में नया टाइप करों और Enter key दबाओंक्लासिक स्टाइल में भी आप, एक ऑब्जेक्ट को सिलेक्ट करके उसके आयकन के टेक्स्ट नाम पर क्लिक करके उसे रीनेम कर सकते हैं। करेंट नाम के चारों ओर एक बॉक्स दिगेगा, उसकी जगह नया नाम टाइप करो।पुराने माम को एडिट करने के लिए, नया नाम टाइप करने की जगह, नाम बॉक्स में वहाँ क्लिक करों जहां से आप टाइपिंग या एडिटिंग करना चाहते हैं।

M1 R4 फाइल्स एवं फोल्डर्स को खोलना Study Material Notes in Hindi

विंडोज एक्सप्लोरर या फोल्डर विंडों में किसी भी ऑब्जेक्ट को इसके आयकन पर सिंगल क्लिक (वेब स्लाइड में) या डबल क्लिक(क्लासिक स्टाइल में) करके खोला जा सकता है।फाइल एवं फोल्डर्स को मूव करना या उनकी कॉपी करनाएक ऑब्जेक्ट को मूव या कॉपी करने के लिए, राइट बटन को दबाकर उसे करेट पोजीशन से खींचकर, नई पोशीशन तक ले जाना होता है। जब आप माउस बटन छोड़ते हैं तो एक शॉर्टकट मेन्यू आता है जैसे कि चित्र 12 में दिखाया गया है। इस शॉर्टकट मेन्यू से कॉपी हियर मूव, हियर, या क्रिएट शॉर्टकट हियर, की भी ऑप्शन पर क्लिक करो।

M1 R4 फाइल्स एवं फोल्डर्स को डिलीट करना Study Material in Hindi

फाइल्स या फोल्डर्स को डिलीट करने के लिए: उस फाइल या फोल्डर को सिलेक्ट करों जिसे डिलीट करना है।टूलबार पर स्थित डिलीट बटनपर क्लिक करों।डायलॉग बॉक्स में  yes पर क्लिक करों।या आप ऑब्जेक्ट पर राइट क्लिक करके कॉन्टेक्स्ट मेन्यू में से डिलीट को चुनो। डायलॉग बॉक्स में से yes को चुनों।कम्प्यूटर से डिलीट की गई ऑब्जेक्ट, रीसायकल बिन फोल्डर में जाती है। आप इन्हें रीयाकल बिन फोल्डर पर डबवल क्लिक करके पुन: प्राप्त कर सकते हैं।स्टार्ट मेन्यूस्टार्ट मेन्यू तब दिखाई देता है जब आप टास्क बार पर स्थित स्टार्ट बटन पर क्लिक करते हैं।सभी प्रोग्रामयह प्रोग्राम मेन्यू को डिस्प्ले करता है जिसमें कई सारे ऐप्लीकेशन प्रोग्राम होते हैं जिन्हें आप रन कर सकते हैं।

M1 R4 माई रीसेट डॉक्यूमेंट Study Material Notes in Hindi

यह डॉक्यूमेट मेन्यू को डिस्प्ले करता है जिसमें उन डॉक्यूमेंटों की लिस्ट होती है जिन्हें आपन हाल ही में खोला था। हाल ही में स्तेमाल किए गए ड़ॉक्यबमेंटों को खोलने के लिए इसे मेन्यू की लिस्ट से चुनें।

M1 R4 कंट्रोल पैनल Study Material in Hindi

यह आपकों सॉफ्टवेयर इन्स्टॉल करने एवं विंडोज की विभिन्न सैटिंग्स क बदलने की अनुमति देता है। इससे आप डेप, टाइम, कीबोपर्ड, माउस, पासवरच्ड डिस्प्ले, साउंड सैटिंगस आदि को बदल सकते हैं।प्रिंटर एवं फैक्सयह आपकों प्रिंटर एवं फैकस के करेटस्टेटचस देखने की अनुम्ति देता है।हेल्प एवं सपोर्टयह ऑनलाइन हेल्प डिस्पेले करता है जो विंडो के बारे में एवं इसके साथ आने वाली ऐक्सेसरीज के बारे में सूचनाओं की स्क्रीनों का एक सैट होता है।सर्चयबह एक विंडो डिस्पे करता है जिससे आप फाल्स, फोल्डर, कम्प्यूटर लोग एवं पिक्टर दि को खोज सकते हैं।रनयह आपकों किसी भी प्रोग्राम को इसका नाम और लोकेशन टाइप करके उसे रन करने की अनुमति देता है।लॉग आफयदि आपका कम्प्यूटर एक लोकल एरिया नेटवर्क पर है तो यह कमांड, सभी प्रोग्रामों को बंद कर देता है, आपके कम्प्यूटर को नेटवर्क से डिस्कनेक्ट कर देता है एवं आप के कम्प्यूटर को न्या किसी के द्वारा इस्तेमाल करने लिए लॉग ऑन किए जाने के लिए तैयर करता है।

M1 R4 कम्प्यूटर को टर्न ऑफ करना (Turn Off Computer) Study Material in Hindi

यह टर्न ऑफ कम्प्यूटर डायलॉग बॉक्स को डिस्प्ले करता है। यदि आप कम्प्यूटर को स्विच ऑफ करने के लिए तैयार है तो टर्न ऑफ को चुनें। री स्टार्ट को चुनें ताकि आप कम्प्यूटर को दोबारा स्टार्ट कर सकें। स्टैंड बाई को चुने यदि आप कम्प्यूटर को र्लो पॉवर स्टेट में रखना चाहते हैं।Life Our Facebook PageSee Also : O Level Study Material Notes Sample Model Practice Question Papers with Answers

Leave a Comment

Your email address will not be published.