SSC CGL TIER 1 Types Of Drainage System In India Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Types Of Drainage System In India Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Types Of Drainage System In India Study Material In Hindi

भारत में अपवाह–तन्त्र के प्रकार

SSC CGL TIER 1 Types Of Drainage System In India Study Material In Hindi
SSC CGL TIER 1 Types Of Drainage System In India Study Material In Hindi

पूर्ववर्ती अपवाह   हिमालय की अधिकांश नदियाँ; जैसे—ब्रह्रापुत्र, सिन्धु, तिस्ता।

अनुगामी अपवाह   दक्षिणी भारत का अपवाह–तन्त्र मुख्यत: अनुगामी है। पेरियार, शरावती, पोन्नानी पश्चिमी घाट से निकलकर पूर्व की ओर बहती हैं।

अनुवर्ती अपवाह   दक्षिणी प्रायद्वीप के उत्तर भाग का ढाल उत्तर की ओर है, इसलिए विन्ध्याचल और सतपुड़ा पर्वत क्रम से निकलने वाली नदियाँ उत्तर की ओर बहती हुई यमुना व गंगा में मिल जाती हैं। इनमें चम्बल, सिन्ध, केन, बेतवा उल्लेखनीय हैं।

आयताकार अपवाह   कोसी और सहायक नदियाँ

समानान्तर अपवाह   गंगा के ऊपरी मैदान की नदियाँ

अन्त: स्थलीय अपवाह   राजस्थान की रुपनारायणन, मेढ़ा, लूनी।

क्रमहीन अपवाह   दिबांग एवं लोहित नदियाँ ब्रह्रापुत्र के साथ क्रमहीन जल अपवाह बनाती हैं।

अध्यारोपित अपवाह   दामोदर, स्वर्णरेखा, चम्बल तथा बनास नदियाँ।

अरीय अपवाह   अमरकण्टक पर्वत से निकलने वाली नर्मदा, सोन तथा महानदी।

वृक्षनुमा अपवाह   दक्षिण भारत की अधिकांश नदियाँ।

Know Main Facts For SSC CGL TIER 1

प्रमुख तथ्य

  • देवप्रयाग में भागीरथी अलकनन्दा से मिलती है, तो संयुक्त धारा का नाम गंगा हो जाता है।

स्थान                             नदी संगम

देवप्रयाग            =             भागीरथी  +  अलकनन्दा

रुद्रप्रयाग            =             मन्दाकिनी + अलकनन्दा

कर्णप्रयाग          =            पिण्डार + अलकनन्दा

विष्णु प्रयाग       =           धौलीगंगा + अलकनन्दा

  • गंगा को बांग्लादेश में पद्मा के नाम से जाना जाता है। पद्मा, ब्रह्रापुत्र (जिसको बांग्लादेश में जमुना कहा जाता है।) से मिलकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है।
  • गंगा व ब्रह्रापुत्र नदियाँ बांग्लादेश में विश्व का सबसे बड़ा डेल्टा सुन्दर वन बनाती है।

  • ब्रह्रापुत्र का तिब्बत में नाम सांगपों है व भारत में प्रवेश करने पर अरुणाचल प्रदेश में यह दिहांग कहलाती है।
  • सिन्धु नदी भारत में केवल जम्मू–कश्मीर में बहती है। भारत व पाकिस्तान के साथ सिन्धु जल समझौते (1960 ई.) के अनुसार भारत इसका केवल 20% जल उपयोग कर सकता है।
  • प्रायद्वीपीय नदी क्रम उत्तर से दक्षिण–महानदी, गोदावरी, कृष्णा, पेन्नार, कावेरी एवं वैगाई।
  • प्रायद्वीपीय नदियों का लम्बाई के अनुसार घटता क्रम—गोदावरी, कृष्णा, नर्मदा, महानदी, कावेरी, ताप्ती।

SSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.