SSC CGL TIER 1 Rivers of India Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Rivers of India Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Rivers of India Study Material In Hindi

भारत की नदियाँ

SSC CGL TIER 1 Rivers of India Study Material In Hindi
SSC CGL TIER 1 Rivers of India Study Material In Hindi

             

नदी

उद्गमसंगम/मुहानालम्बाई (किमी)

विशेष

सतलजमानसरोवर झील के समीप स्थित राकस ताल (ऊँचाई समुद्र तल से 4555 मी)चिनाब नदीलगभग 1500 (भारत में 1050)शिवालिक पर्वत श्रृंखला को काटती हुई पंजाब में प्रवेश करती है। लुधियाना तथा फिरोजपुर तटवर्ती नगर हैं।
सिन्धुतिब्बत में मानसरोवर झील के पास सानोख्याबाब हिमनद सेअरब सागर2880 (भारत में 1114)इसकी सहायक नदियाँ हैं सतलज, चिनाब रावी, व्यास तथा झेलम।
रावीकाँगड़ा जिले में रोहतांग दर्रें के समीपचिनाब नदी725
व्यासरोहतांग दर्रे के समीप व्यास कुण्ड से 4330 मी की ऊँचाई परहरि के (कपूरथला) के समीप सतलज नदी470कुल्लू घाटी से बहती हुई धौलाधार पर्वत को पार कर पंजाब के मैदान में पहुँचती है।
झेलमबेरीनाग (कश्मीर) के समीप शेषनाग झीलचिनाब नदी724 (भारत में 400)श्रीनगर में शिकारा या बजरे चलाए जाते हैं।
गंगागोमुख के पास गंगोत्री हिमानी (समुद्र तल से 3900 मी से भी अधिक ऊँचाई पर)बंगाल की खाड़ी2525 (भारत में)गंगा वास्तव में भागीरथी एवं अलकनन्दा नदियों का सम्मिलित नाम है। प्रमुख सहायक नदियाँ हैं—यमुना, गण्डक, घाघरा, कोसी आदि।
यमुनाबन्दरपूँछ के पश्चिमी ढाल पर स्थित यमुनोत्री हिमानी (ऊँचाई समुद्र तल से 6316 मी)प्रयाग (इलाहाबाद) में गंगा नदी1375इसकी सहायक नदियाँ हैं चम्बल, बेतवा तथा केन ये तीनों ही नदियाँ दक्षिण से यमुना में मिलती है।
चम्बलमध्य प्रदेश में मऊ के समीप स्थित जाना पाव पहाड़ी (ऊँचाई समुद्र तल से 616 मी)इटावा (उ.प्र.) से 38 किमी दूर यमुना नदी1050देश के सबसे गहरे खड्डों का निर्माण, इसकी सहायक नदियाँ हैं—काली, सिन्ध, पार्वती, सिप्ता तथा बनास।
रामगंगानैनीताल के समीप मुख्य हिमालय श्रेणी का दक्षिणी भागकन्नौज के निकट गंगा नदी696खोन इसकी प्रमुख सहायक नदी है।
शारदा (काली गंगा)कुमायूँ हिमालय, का मिलाम (Milam) हिमनदबहरामघाट के समीप घाघरा नदी602इसकी सहायक नदियाँ हैं—सर्मा, लिसार, सरयू या पूर्वी रामगंगा, चौकिंया।
घाघरा या करनालीनेपाल में तकलीकोट से 37 किमी उत्तर–पश्चिम में म्पसातुंग हिमानीसारन तथा बलिया जिले की सीमा पर गंगा नदी1080शिवालिक को पार करते समय शीशपानी नामक 180 मी गहरे खड्डे का निर्माण चौकिया तथा छोटी गंगा इसकी सहायक नदियाँ हैं।
गण्डक (नेपाल में शालीग्राम तथा मैदानी भाग में नारायणी)नेपालपटना के समीप गंगा नदीभारत में 425सहायक नदियाँ काली गण्डक तथा त्रिशूली गंगा हैं। इसमें मिलने वाले गोल—गोल पत्थरों को शालीग्राम कहा जाता है।
कोसीगोसाईथान चोटी के उत्तर मेंकारागोला के दक्षिण–पश्चिम में गंगा नदी730इसकी मुख्य धारा अरुण नदी (तिब्बत में पंगचू) हैं। सहायक नदियाँ हैं–यारु, सूनकोसी, तामूर कोसी, इन्द्रावती, लीखू, दूधकोसी, भोटकोसी, ताम्बाकोसी आदि।
बेतवा या वेत्रवतीमध्य प्रदेश के रायसेन जिले में कुमरागाँव के समीप विंध्याचलहमीरपुर के समीप यमुदा नदी480ऊपरी मार्ग में कई झरनों का निर्माण
सोनअमरकण्टक की पहाड़ियाँपटना के समीप गंगा नदी780नर्मदा के समीप उद्गम
ब्रह्रापुत्र (तिब्बत में सांपू तथा असोम में दिहांग)तिब्बत में मानसरोवर झील से 80 किमी की दूरी पर स्थित हिमानी (ऊँचाई समुद्र तल से 5150 मी)बंगाल की खाड़ी2900 (भारत में 916)प्रमुख सहायक नदियाँ डिबोंग लोहित, सेसरी, नोवा, दिहांग आदि हैं। अन्य सहायक नदियाँ हैं–स्वर्णसीरी, धनसीरो, मानस, धारला, तिस्ता, बूढीं दिहांग, धनसिरी कुलसी तथा जिंजराम।
नर्मदाविंध्याचल पर्वत श्रेणियों में स्थित अमरकण्टक नामक स्थान (ऊँचाई समुद्र तल से 1057 मी)खम्भात की खाड़ी1312जबलपुर में भेड़ाघाट के समीप कपिलधारा (धुआँधार) जलप्रपात का निर्माण। डेल्टा के बजाय एश्चुअरी बनाती है।
ताप्तीवैतूल जिले (मध्य प्रदेश) के मुल्ताई (मूलताप्ती) नगर के पास 722 मी की ऊँचाई सेसूरत के निकट खम्भात की खाड़ी724डेल्टा के बजाय एश्चुअरी बनाती है। पूरणा प्रमुख सहायक नदी है।
महानदीछत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में सिहावा के समीपबंगाल की खाड़ी (कटक के समीप)815ब्राह्राणी तथा वैतरणी सहायक नदियाँ हैं।
क्षिप्राइन्दौर जिले की काकरी बरडी नामक पहाड़ीचम्बल नदी560इसके किनारे उज्जैन का विख्यात महाकालेश्वर मन्दिर है, जहाँ प्रति 12 वें वर्ष कुम्भ मेला लगता है। इस पर बजाज सागर बाँध (बाँसवाड़ा) बनाया गया है।
माहीधार जिला (मध्य प्रदेश) के अमझोरा में मेहद झीलखम्भात की खाड़ी585इस पर बजाज सागर बाँध (बाँसवाड़ा) बनाया गया है।
लूनीअजमेर जिले मे स्थित नाग पहाड़ (अरावली पर्वत) (आनासागर)कच्छ का रण320इसकी मुख्य सहायक नदियाँ बाड़ी, सूकरी मिठड़ी आदि हैं। यह नमकीन नदी है। थार मरुस्थल में लुप्त हो जाती है।
साबरमतीउदयपुर जिले में अरावली पर्वत पर स्थित जयसमुद्र झीलखम्भात की खाड़ी371इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ सावर, हाथवती, मेश्वा, बेतरक तथा माजम हैं
कृष्णामहाबलेश्वर के समीप पश्चिम घाट पहाड़ (ऊँचाई समुद्र तल से 1337 मी)बंगाल की खाड़ी1401इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं–भीमा, तुंगभ्रदा, मूसी, अमरावती, कोयना, पंचगंगा, दूधगंगा, घाटप्रभा, मालप्रभा आदि
गोदावरीनासिक जिले (महाराष्ट्र) के दक्षिण–पश्चिम में 64 किमी दूर स्थित त्र्यंबक गाँव की एक पहाड़ीबंगाल की खाड़ी1465इसे वृद्धगंगा या दक्षिण गंगा भी कहा जाता है। इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं–प्रवरा, पुरना, इन्द्रावती, मानेर तथा सवरी।
कावेरीकर्नाटक के कुर्ग जिले में स्थित ब्रह्रा गिरी पहाड़ी (ऊँचाई समुद्र तल से 1341 मी)बंगाल की खाड़ी800इसे दक्षिण भारत की गंगा के रुप में भी जाना जाता है। शिवसमुद्रम् जलप्रपात तथा श्रीरंगपट्टम् एवं शिवसमुद्रम् द्वीपों की उपस्थिति इसका महत्व बढ़ा देती है।
तुंगभद्राकर्नाटक में पश्चिमी घाट पहाड़ की गंगामूल चोटी से तुंगा तथा समीप में ही काडूर से भद्रा नदी का उद्गमकृष्णा नदी331इसकी प्रमुख सहायक नदियाँ हैं–कुमुदवती, वर्धा, मगारी तथा हिन्द।
पेन्नारनन्दीदुर्ग पहाड़ी (कर्नाटक)बंगाल की खाड़ी597इसकी सहायक नदियाँ हैं–पापाधनी तथा चित्रावती।

 

हुगलीयह गंगा की एक शाखा है, जो घुलिया (पश्चिम बंग) के पश्चिम बंग) के दक्षिण गंगा से अलग होती है।बंगाल की खाड़ीइसकी प्रमुख सहायक नदी जलांगी है।

SSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

Leave a Comment

Your email address will not be published.