SSC CGL TIER 1 Biological Evolution Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Biological Evolution Study Material In Hindi

SSC CGL TIER 1 Biological Evolution Study Material In Hindi

जैव विकास

SSC CGL TIER 1 Biological Evolution Study Material In Hindi
SSC CGL TIER 1 Biological Evolution Study Material In Hindi

हमारी पृथ्वी की उत्पत्ति लगभग 4.6 अरब वर्ष पूर्व हुई परन्तु इस पर जीवन की उत्पत्ति लगभग 3.8 अरब वर्ष पूर्व हुई। उसके पश्चात् इन जीवों में विकास की क्रिया द्वारा नई जातियों की उत्पत्ति हुई। पृथ्वी की कुल जीवन अवधि (4.6 अरब वर्ष) को भू-वैज्ञानिक समय कहते हैं। प्रारम्भिक, निम्नकोटि के जीवों से क्रमिक परिवर्तनों द्वारा अधिकाधिक जीवों की उत्पत्ति को जैव-विकास कहा जाता है। जीव जन्तुओं की रचना कार्यिकी एवं रासायनिक भ्रुणीय विकास वितरण आदि में विशेष क्रम तथा आपसी सम्बन्ध के आधार पर सिद्ध किया गया कि जैव विकास हुआ।

 Know Lamarckism Study Material In Hindi

लैमार्कवाद

  • लैमार्क ने 1809 में फिलोस्फी जूलोजिक नामक पुस्तक में उपार्जित लक्षणों की वंशागति का सिद्धान्त प्रस्तुत किया।
  • अंगों के कम उपयोग का उदाहरण लैमार्क ने साँपों में दिया।
  • लैमार्कवाद की सबसे कड़ी आलोचना जर्मन वैज्ञानिक वीजमान ने की। इन्होंने अपने प्रयोग में 21 पीढियों तक चूँहों की पूँछ काटकर आपस में प्रजनन कराया लेकिन किसी भी पीढ़ी में पूँछ विहीन चूँहे उत्पन्न नहीं हुए।
  • वीजमान ने 1886 में जननद्रव्य की निरन्तरता का सिद्धान्त (Theory Of Continuity Of Germplasm) प्रतिपादित किया।

Darwinism For SSC CGL TIER 1

डार्विनवाद

  • चार्ल्स रॉबर्ट डार्विन ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘जातियों को अभ्युदय’ (The Origin Of Species) में विकासीय सिद्धान्त की व्याख्या की।
  • डार्विन के द्वारा प्रतिपादित सिद्धान्त को प्राकृतिक चयन का सिद्धान्त अथवा डार्विनवाद के रुप में जाना जाता है।
  • अपनी यात्रा के दौरान डार्विन ने गैलापैगोज द्वीप समूह पर 20 प्रकार की चिड़ियाँ देखी। बाद में ये चिड़ियाँ डार्विन की फिन्ची (Darwin’s Finches) के नाम से प्रसिद्ध हुईं।
  • रेफेनोब्रैसिका रेफेनस तथा ब्रैसिका का संकर है।
  • पक्षियों का उद्गम जुरेसिक काल में हुआ।
  • डार्विनवाद मुख्यतया प्रचुर सन्तानोत्पत्ति, जीवन संघर्ष एवं प्राकृतिक चयन पर आधारित था।

Evidences Of Organic Evolution Study Material In Hindi

जैव विकास के प्रमाण

यह मुख्यतया संरचनात्मक अथवा समजात एवं समवृति अंगों से सम्बन्धित है।

समजात अंग (Homologous Organs Study Material In Hindi) ऐसे अंग, जो रचना व उत्पत्ति में समान हों लेकिन कार्य में भिन्न हों, समजात अंग कहलाते हैं। उदाहरण — मेढक, पक्षी एवं मनुष्य के अग्रपाद।

समवृत्ति अंग (Analogous Organs Study Material In Hindi) ऐसे अंग, जो रचना व उत्पत्ति में भिन्न हों लेकिन कार्य में समान हों, समवृत्ति अंग कहलाते हैं। उदाहरण—पक्षियों तथा कीटों के पंख।

अवशेषी अंग (Vestigial Organs Study Material In Hindi) वे अंग जो पूर्वजों में कार्यशील थे लेकिन वर्तमान में कार्यविहीन हैं, अवशेषी अंग कहलाते हैं। उदाहरण—साँपों के अल्पविकसित पाद, कीवी पक्षी के पंख।

मानव शरीर में 100 से अधिक अवशेषी अंग पाए जाते हैं। इनमें से कुछ प्रमुख, प्लीका सेमील्यूनेरिस या निमेषर झिल्ली, कर्ण पल्लवों की पेशियाँ, पुच्छ कशेरुकाएँ, वर्मीफॉर्म एपेन्डिक्स, अकलदाढ़ आदि हैं।

Main Diseases Caused By Viruses In Human For SSC CGL TIER 1

विषाणुओं द्वारा होने वाले मनुष्य में कुछ प्रमुख रोग

रोग

प्रभावित अंग

गलसुआपेरोटिड लार ग्रन्थियाँ
रोहे या ट्रेकोमानेत्र
डेंगूमाँसपेशी एवं जोड़
फ्लू या इन्फ्लुएंजाश्वसन तन्त्र
रेबीज या हाइड्रोफोबियातन्त्रिका तन्त्र
खसरासम्पूर्ण शरीर
चेचकसम्पूर्ण शरीर विशेषकर चेहरा तथा हाथ-पाँव
पोलियोतन्त्रिका तन्त्र (स्पाइनल कॉर्ड के मोटर तन्त्रिका की क्षति)
हर्पीसत्वचा, श्लेष्मकला
मस्तिष्क शोथ या एन्सेफेलाइटिसतन्त्रिका तन्त्र

Main Diseases Caused By Bacteria In Human Study Material In Hindi

जीवाणुओं द्वारा मानव में होने वाले प्रमुख रोग

रोग

जीवाणु

प्रभावित अंग

निमोनियाडिप्लोकोकस न्यूमोनीफेफड़े
टिटेनसक्लॉस्ट्रीडियम टिटेनीतन्त्रिका तन्त्र तथा माँसपेशियाँ
बॉट्यूलिज्म या भोजन विषाक्तताक्लॉस्ट्रीडियम बॉट्यूनिमतन्त्रिका तन्त्र, श्वास लेने में पीड़ा
मियादी बुखार (टायफॉइड)सालमोनेला टाइफीआँत का रोग
कुष्ठ रोगमाइकोबैक्टीरियम लेप्रीत्वचा तथा तन्त्रिकाएँ
क्षयरोग (टी. बी.)माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिसशरीर का कोई भी अंग, विशेषकर फेफड़े
हैजाविब्रिओ कोमाआँत या आहारनाल
डिफ्थीरियाकॉरीनेबैक्टीरियम डिप्थेरीश्वाल नली
काली खाँसीहेमोफिलस परट्यूसिसश्वसन तन्त्र
सिफिलिसट्रेपोनेमा पैलीडमजनन अंग, मस्तिष्क तथा तन्त्रिका तन्त्र
प्लेगपॉस्ट्यूरेला पेस्टिसबगलें या काँखें, फेफड़े, लाल रुधिर कणिकाएँ
मेनिनजाइटिसनीसेरिया मेनिनजाइटिसमस्तिष्क के ऊपर की झिल्लियाँ, मस्तिष्क

Human Diseases Caused By Fungi For SSC CGL TIER 1

कवक जनित मानव रोग

रोग

प्रभावित अंग

रोगकारक कवक

एस्परजिलोसिसकान तथा फेफड़ेएस्परजिलस फ्लेक्स तथा ए. फ्यूमिगेटस
छाले होनागला तथा मुँहए. नाइगर तथा मोनीलिया
क्रिप्टोकॉकसतास्नायु तन्त्रक्रिप्टोकॉकस नियोफार्मेन्स
परागज ज्वरसमस्त शरीरआल्टरनेरिया, हेल्मिन्थोस्पोरियम फोमा तथा ट्राइकोडर्मा
एथलीट फुटपैरट्राइकोफाटोनी कुल के सद्स्य
दादत्वचामाइक्रोस्पोरस लेनोसम

 

Human Diseases Caused By Protozoan Study Material In Hindi

प्रोटोजोअन जन्य मानव रोग

रोग का नाम

रोग कारक जीव

संक्रमण की विधि

अमीबताएण्टअमीबा

हिस्टोलिटिका

सन्दूषित जल व भोजन द्वारा
मलेरियाप्लाज्मोडियम जातियाँसंक्रमित मादा एनॉफिलीज मच्छर के काटने से
अफ्रीकी निद्रा रोग या गैम्बियन ज्वरट्रिपैनोसोमा गेम्बिएन्सग्लोसीना पैल्पेलिस या सीसी मक्खी के काटने से
चागा रोगट्रिपैनोसोमा क्रूजीग्लोसीना पैल्पेलिस के काटने से
काला-अजारलीशमानिया डोनोवानीफ्लीबोटेमस या बालू मक्खी के काटने से
अतिसारजिआर्डियासन्दूषित जल व भोजन
ल्यूकोरियाट्राइकोमोनास वैजीनेलिसलैंगिक सम्बन्ध

 

Human Diseases Caused By Helminthes For SSC CGL TIER 1

हैल्मिन्थज जन्य मानव रोग

रोग

परजीवी

वयस्क का रहने का स्थान

ऐस्कैरिएसिसऐस्कैरिस लम्ब्रीकाएडिसछोटी आँत
एन्काइलोस्टोमाएसिसएन्काइलोस्टोमा ड्यूडीनेलछोटी आँत
गिनीकृमि रोगड्रेकनकुलस मेडीनेनसिसत्वचा के नीचे
एन्ट्रोबिएसिसएन्ट्रोबिअस वर्मीकुलेरिसकोलन या पेरीनियम के बाहर
लोएसिस (कन्जक्टीवाएटीस)लोआ लोआसंयोजी ऊतक
ओंकोसरकाएसिसओंकोसेरिया वाल्वोलसत्वचा के नीचे या गाँठों में
स्ट्रांगाइलोएडिएसिसस्ट्रांगाइलोएडिस स्टरकॉर्डिसपूर्ण आँत
ट्राइकाइनेलिएसिसट्राइकाइनेला स्पाइरेलिसछोटी आँत
शिस्टोसोमिएसिसशिस्टोसोमा हीमेटोबियमरुधिर वाहिनियाँ
फाइलेरिएसिस या फीलपाँववूचेरेरिया बैंक्राफ्टीलिम्फ वाहिनियाँ

 

बायोजेनेटिक नियम (Biogenetic Law) अथवा पुनरावृत्ति सिद्धान्त (Recapitulation Theory)         हेकल ने प्रतिपादित किया इस सिद्धान्त के अनुसार, “व्यक्तिवृत्त में जातिवृत्त की पुनरावृत्ति” (Ontogeny Repeats Phylogeny) होती है अर्थात् जन्तु अपनी भ्रूणावस्था में पूर्वजों की अवस्थाओं को दोहराते हैं।

जीवों में कभी-कभी अचानक कोई ऐसा लक्षण विकसित हो जाता है, जो वर्तमान जातीय लक्षण न होकर किसी निम्न वर्गीय पूर्वज जाति का होता है, इसे प्रत्यावर्तन कहते हैं।

विभिन्न वर्गों के बीच की कड़ियाँ

  • आर्किओप्टेरिक्स                        सरीसृपों और पक्षियों
  • विषाणु                                        सजीव और निर्जीव
  • युग्लीना                                      जन्तु और पादप
  • प्रोटीरोस्पॉन्जिया                         प्रोटोजोआ और पोरीफेरा
  • निओपिलिना                               मोलस्का और एनीलिडा
  • पेरिपेटस                                     एनीलिडा और ऑर्थ्रोपोडा
  • बैलेनोग्लोसस                             अकशेरुकी और कशेरुकी
  • प्रोटोथीरिया                                 सरीसृप और स्तनधारी

Mutation Study Material In Hindi

उत्परिवर्तन

  • ह्रयूगो डी व्रीज (Hugo de Vries) के अनुसार, किसी जाति के पौधों या जन्तुओं में, जो आकस्मिक विभिन्नताएँ उत्पन्न हो जाती हैं। उन्हें उत्परिवर्तन कहते हैं।
  • प्रकृति में स्वयं होने वाले उत्परिवर्तन प्राकृतिक (Spontaneous) तथा X-किरणों, γ-किरणों, β-किरणों या रासायनिक पदार्थों (जैसे—मस्टर्ड गैस, ईथाइल मेथेन सल्फोनेट, मिथाइल मेथेन सल्फोनेट) आदि के द्वारा प्रेरित किए जाने वाले उत्परिवर्तन कृत्रिम (Induced) कहलाते हैं।

Discoveries Related to Medicine For SSC CGL TIER 1

चिकित्सा सम्बन्धी आविष्कार

आविष्कार

आविष्कारक

रुधिर परिसंचरणविलियम हार्वे
रुधिर परिवर्तनकार्ल लैण्डस्टीनर
विटामिनफंक
स्टैथोस्कोपरेनेलैनक
स्ट्रेप्टोमाइसिनबॉक्समैन, सेलमेन
एल्फा ड्रग्सडागमैंक
सिफलिस की चिकित्सापॉल एरिक
हाइड्रोफोबिया की चिकित्सालुई पाश्चर
ह्रदय प्रत्यारोपणक्रिश्चियन बर्नार्ड
हैजे का टीकारॉबर्ट कोच
होम्योपैथीहैनीमैन
टीबी के कीटाणु तथा चिकित्सारॉबर्ट कोच
टायफॉइड के जीवाणुरो बर्थ
डायबिटीज तथा चिकित्साएफ बेटिंग
डीडीटीपॉल मुलर
पेनिसिलिनएलैक्जेण्डर फ्लेमिंग
पोलियो का टीकाजॉन्स ई. साल्क
पीत बुखार की चिकित्सारीड
प्लेग तथा पेचिस की चिकित्साकिटाजाटो
बीसीजीयूरिन कालमेट
बेरी-बेरी रोग की चिकित्साआइजकमैन
बैक्टीरियाल्यूवेनहॉक
मलेरिया परजीवी व चिकित्सारोनाल्ड रॉस
अल्ट्रावायलेट किरणों द्वारा चिकित्साफ्रिन्सेन
आरएनएआर्थर अर्ग तथा जेम्स वाटसन
डीएनएजेम्स वाटसन एवं क्रिक
इन्सुलिनबेटिंग
एस्प्रिनड्रेसन
एण्टीसेप्टिक सर्जरीलिस्टर
क्लोरोक्वीन (कुनैन) सिन्थेटिकरेबी
काले बुखार की चिकित्सायू.एस.ब्रह्राचारी
चेचक का टीकाएडवर्ड जेनर
जेनेटिक कोडहरगोविन्द खुराना
टेरामाइसिनफिनले

SSC CGL Study Material Sample Model Solved Practice Question Paper with Answers

Join Our CTET UPTET Latest News WhatsApp Group

Like Our Facebook Page

Leave a Comment

Your email address will not be published.